मंगलवार, 12 फ़रवरी 2013

प्रेम की बात करते हो

प्रेम की बात करते हो बड़े ही गर्व में रह कर 
प्रेम जब हो गया तुमको पहन ली शर्म की चादर ||

जहाँ पर प्यार होता है वहां इनकार होता है 
वहीँ इकरार की खातिर तड़पते हैं कई रहबर ||

गुरूर-ए -इश्क में रहना रिवाज -ए -हुस्न की फितरत
अदाओं की पनाहों में मिटे आशिक कई बनकर ||

तुम्हे मालूम है जब भी हमारा दिल धड़कता है
मुझे मालूम होता है तुम्हारी याद है दिलबर ||


हमारे इश्क की कहानी सच हो गयी होती
ज़माना साथ जो देता हमारा रहनुमा बन कर ||


कभी जो आईना देखो हमें भी सोच लेना तुम
हमारी चाहतों का अक्स बनता है वहां अक्सर ||

जुदाई के कई किस्से सुने हैं प्यार के दुश्मन
जहाँ की शाजिशों में दब गए लाखों फ़ना होकर||

हमारी याद में तुम थे कलम ने बात जब की थी 
तुम्हे कैसे बताएं हम लिखा है याद में जलकर ||...............मनोज