मंगलवार, 12 फ़रवरी 2013

तुम्हारे आखिरी ख़त

तुम्हारे आखिरी ख़त में लिखी उस बात की खातिर 
भुला दूंगा तुम्हे आखिर तेरे जज्बात की खातिर ||

सुना है याद आने पर बरसते हैं शरार -ए -चश्म 
कभी रोना नहीं है अब तुम्हारी याद आने पर ||

हमारी चाहतों का क़त्ल होने दो फ़ना हमको
बदल देंगे खयालों को तुम्हारी याद की जद पर ||

जवाबी कारवाई में अमन की बात मत छेड़ो
हुए बर्बाद हैं अब तक कई परिवार सरहद पर ||

तुम्हारी मुस्कराहट पर फ़िदा हूँ जानती हो तुम
तुम्हारे आंसुओं से टूट जाऊँगा जुदा होकर ||

सुना है क़त्ल होते हैं हसीनों की निगाहों से
चलो गर्दन झुकी है फेंक दो ये वार ही मुझ पर ||

हमारे इश्क का किस्सा किसी को मत सुनाना तुम
                                                       कहेंगे बेवफा तुमको कभी हमको इसे सुनकर ||.................. मनोज